संस्‍कृत शब्‍दकोश

संस्‍कृत हिन्‍दी अंग्रेजी शब्‍दकोश | SANSKRIT HINDI ENGLISH DICTIONARY

��������� - का अर्थ


आपके द्वारा ढूँढा गया शब्‍द '���������' हमें प्राप्‍त हो गया है, इसे कुछ ही देर में शब्‍दकोश में जोड दिया जाएगा ।
कृपया कुछ समय बाद पुन: सम्‍पर्क करें
शब्‍दों को जोडने में सहायता करना चाहते हैं ? कृपया इस श्रृंखला पर जाएँ >> शब्‍द जोडें

सुझाव - संस्‍कृत के शब्‍द ढूँढते समय सर्वोत्‍तम परिणाम प्राप्‍त करने के लिये शब्‍द के अन्‍त में लगे अनुस्‍वार, हलन्‍त अथवा विसर्ग के बिना ही शब्‍द ढूँढें । उदाहरण के लिये यदि आपको "पुस्‍तकम्" का अर्थ ढूँढना है तो इसे बिना अनुस्‍वार (पुस्‍तकं) अथवा बिना म्-कार (पुस्‍तकम्) लगाये केवल "पुस्‍तक" ढूँढें । इसी तरह यदि आपको "पाठ:" ढूँढना है तो इसे केवल "पाठ" ढूँढें ।


आज का शब्‍द | Word of the Day

शब्‍द : पृष्ठांकन
हिन्‍दी : पृष्ठांकन, समर्थन, अनुमोदन, अंकन, पृष्ठ लेख
अंग्रेजी : endorsement

शब्‍दप्रकार : संज्ञा
शब्‍दवर्ग : पुलिंग
विवरण : किसी धनादेश, चेक आदि पर हस्ताक्षर करके लिखना की उसका समाधान हो चुका है।

अष्‍टाध्‍यायी सूत्रपाठ | Sutr of the Day

सूत्र 22 : दीधीवेवीटाम् ।। ०१/01/06 ।।
अर्थ : दीधी‚ वेवी और इट् के इक् के स्थान में गुण और वृद्धि नहीं होती है ।
उदाहरण : दीधी –
आदीध्यनम् (चमकना)। आदीध्यकः (चमकने वाला)।

वेवी –
आवेव्यनम् (गति आदि करना)।
आवेव्यकः (गति आदि करनेवाला)।

इट् –
श्वः कणिता (वह कल आवाज करेगा)।


सर्वाधिक खोजे गये शब्‍द

प्रच्छालनम्
परित्यज्य
परित्यक्तः
श्लोकः
शीतलम्
प्रतिदिनम्
भीतः
स्यूतः
आवश्यकम्
कृतवान्
पृष्ठतः
चलवाणी
वामतः
ध्वजः
कुञ्चिका
अनुत्तमम्
संलग्नकः
व्याकरणम्
अक्षिपत्
दम्भोलिः
ब्रह्माणम्
आदौ
यस्मिन्
अपरे (बहु.)
जयतु
परित्यज्
प्रतिबिम्बः
वदामि
तटे
यच्छसि
समस्या
आकर्ण्य
शक्रस्य
करेण
नभः
यावत्
समाजः
तदैव
ज्ञातुम्
उत्पीटिकायाम्
कूर्चः
क्‍तवतु
मृगस्‍य
पोषणाय
गतौ (द्वि.)
श्‍यामपट्टे
अवरोपणम्
पृच्छति
परिपालयन्तु (बहु.)
शवः
अचिरम्
विहस्य
निकषा
उपविशति
वदति
भोजनम्
खाद्य:
वेणीसंहार:
शेष:
मातरम्
इमानि (बहु.)
इदम्
दत्‍वा
अप्रच्छतम् (दि्व.)
प्रपरश्वः
परश्वः
श्वः
प्रपरह्यः
परह्यः
ह्यः
अद्‍य
घटी
वर्तिका
विहाय
सविता
संक्षेपेण
अनश्यत्
क्षिपति
करपटि्टका
तदर्थम्
व्यूहः
शत्रुव्यूहमर्दनम्
अन्यत्
केतून् (बहु.)
केचन् (बहु.)
पातुम्
प्रेङ्खा
संवर्तः
महती
बाहुल्यम्
शुचिः
शुचिः
कोलाहलम्
वर्तमानः
वर्तमानम्
निमज्जति
दुग्धम्
परमोन्नतिम्
त्वामहमिच्छामि
शोभनम्

सुभाषित | Sukti of the Day

सूक्ति : अधिगतपरमार्थान् पण्डितान् मावमंस्‍था-
स्‍तृणमिवलघुलक्ष्‍मीर्नैव तान् संरुणद्धि ।
अभिनवमदलेखाश्‍यामगण्‍डस्‍थलानाम्,
न भवति विसतन्‍तुर्वारणं वारणानाम् ।। 17 ।।
अर्थ : शास्‍त्रों के वास्‍तविक मर्म को समझाने वाले विद्वानों का अपमान न करें । तुच्‍छ तिनके के समान धन उन्‍हें अपने वश में नहीं कर सकता । नई मदरेखा से सुशोभित काले गण्‍डस्‍थल वाले हाथी को क्‍या कमल के नाल से बांधकर रोका जा सकता है ।।
ग्रन्‍थ : नीतिशतकम्
रचित : भर्तृहरि

लोकोक्तियाँ / मुहावरे

लो./मु. : श्‍वा यदि क्रियते राजा स किं नाश्‍नात्‍युपानहम् ।
आदत सिर के साथ जाती है ।
unavailable
अर्थ : यदि कुत्‍ते को राजा भी बना दिया जाए तो क्‍या वह जूते काटना छोड देता है अर्थात् नहीं छोडता है ।
प्रयोग :