संस्‍कृतजगत्

संस्‍कृत सहायता प्रकोष्‍ठ | SANSKRIT HELP FORUM

मोहित कुमार वैश्य

अर्थ क्या है इस श्लोक का

अर्द्धरात्रे श्मशाने वा शनिवारे जपेन्मनुम्।
अष्टोत्तर सहस्रं तद्दशवारं जपेत्ततः॥

समय : 11:53:40 | दिनाँक : 22/06/2020
उत्‍तर दें
SWARUPANAND PANDEY

इस श्लोक में कुछ त्रुटि जान पड़ती है अथवा ये अधूरा है
कृपया पुनः प्रविष्ट करें और संदर्भ भी दें।

X

प्रश्‍न पूँछें

X