संस्‍कृतजगत्

संस्‍कृत सहायता प्रकोष्‍ठ | SANSKRIT HELP FORUM

Mohit Kumar Vaish

अर्थ क्या है इस श्लोक में

भूमिकामो भूतिकामः षण्मासं च जपेत्सुधीः।
प्रतिकृत्या विनाशार्थं जपे त्रिशत मुत्तमम्॥

समय : 06:46:13 | दिनाँक : 23/06/2020
उत्‍तर दें
X

प्रश्‍न पूँछें

X