संस्‍कृतजगत्

संस्‍कृत सहायता प्रकोष्‍ठ | SANSKRIT HELP FORUM

प्रश्न जोड़ें
Question
deepakshi
प्रश्न : Meaning and source of shloka

ब्रह्माज्ञानाज्जगज्जन्म ब्रह्मणोऽकारणत्वतः। अधिष्ठानत्वमात्रेण कारणं ब्रह्म गीयते

समय : 04:10 PM | दिनाँक : 27/03/2021
विषय :
उत्‍तर दें

Answer
डॉ. विवेकानन्द पाण्डेय

यह कहाँ से लिया गया है यह बताना कठिन है । आपको कहाँ से प्राप्त हुआ यह बताएँ तो इसपर और अधिक शोध हो सकेगा ।
फिलहाल यदि इस की वर्तनी गलत नहीं है तो इसका अर्थ निकालने का प्रयत्न किया जा सकता है ।
यहाँ इसके प्रतिपद का अर्थ निकालने का प्रयत्न कर रहा हूँ किन्तु यह प्रयत्न अनन्तिम है तथा दोष की सम्भावना से रहित नहीं है ।

ब्रह्माज्ञानाज्जगज्जन्म ब्रह्मणोऽकारणत्वतः। अधिष्ठानत्वमात्रेण कारणं ब्रह्म गीयते

ब्रह्माज्ञानाज्जगज्जन्म
ब्रह्म (ब्रह्म के) अज्ञानात् (अज्ञान से) जगत् (संसार) जन्म – ब्रह्म के अज्ञान से संसार का जन्म

ब्रह्मणोऽकारणत्वतः
ब्रह्मणः (ब्रह्म से/ब्रह्म का) कारण तु अतः (यहाँ से⁄इसमें) –
इसमें कारण भी ब्रह्म ही है

अधिष्ठानत्वमात्रेण
अधिष्ठानत्व (निकटता⁄निवास) मात्रेण (केवल)
केवल निवास या निकटता होने के कारण

कारणं ब्रह्म गीयते
इसका कारण ब्रह्म कहा जाता है ।

अर्थ बहुत स्पष्ट नहीं किन्तु आशय कुछ इस तरह हो सकता है –

ब्रह्म के अज्ञान स्वरूप ही संसार का ज्ञान उत्पन्न होता है जिसके (जिस माया या संसार के आभास या भ्रम का) कारण भी ब्रह्म ही है । ब्रह्म ही इसका अधिष्ठान अथवा निवास है अतः ब्रह्म को ही इस जगत् का भी कारण कहा जाता है ।

यह इसका निर्दुष्ट आशय नहीं है । इसका अर्थ सम्भवतः कुछ ठीक हो और यह भी सम्भव है कि उक्त अर्थ इसके विपरीत ही हो । पर इसके अध्ययन से कुछ वेदांत से सम्बन्धित सिद्धान्त की प्रतीति हो रही है ।
विषय और स्रोत के अज्ञान के कारण इतनी ही सहायता कर सकने में समर्थ हूँ । कृपया क्षमा कीजियेगा ।

समय : 04:51 PM | दिनाँक : 20/04/2021