संस्‍कृतजगत्

संस्‍कृत सहायता प्रकोष्‍ठ | SANSKRIT HELP FORUM

प्रश्न जोड़ें
Question
हर्शदा
प्रश्न : जयति/ जयते

सत्यमेव जयते। यहा जयते व्याकरण दृष्टी से कैसे योग्य है?

समय : 11:39 PM | दिनाँक : 09/06/2021
विषय : व्याकरण
उत्‍तर दें

Answer
डॉ. विवेकानन्द पाण्डेय

सत्यमेव जयति नानृतम् – यह मुण्डकोपनिषद् का वाक्य है । जयति शब्द जि धातु से लट् लकार प्र.पु. एकवचन में बनता है । क्यूँकि जि धातु नित्य परस्मैपदी है इसलिये जयते शब्द अशुद्ध है ।
जयते शब्द केवल वि और परा उपसर्ग पूर्वक ही आत्मनेपदी रूप में विजयते और पराजयते बनेगा ।
इस तरह शुद्ध वाक्य है – सत्यमेव जयति अथवा सत्यमेव विजयते ।

समय : 09:42 PM | दिनाँक : 09/07/2021